कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर और लॉकडाउन की आफत के बाद अपने घर लौटते मजदूरों की तस्वीरें आम हो चली हैं. मुंबई, दिल्ली, हैदराबाद, राजस्थान, हरियाणा, पंजाब समेत देश के अलग-अलग राज्यों से प्रवासी मजदूर लंबी दूरी पैदल ही अपने घरों के लिए तय कर रहे हैं. इस बीच बेबसी की एक तस्वीर हरियाणा के अंबाला से सामने आई. जहां पंजाब से पलायन कर अंबाला पहुंचे मजदूर बिना चप्पल के दिखे. इन मजदूरों ने पानी की बोतलों को ही पैरों में बांधकर चप्पल बना लिया और मंजिल की ओर बढ़ चले.

दरअसल, लॉकडाउन के बाद बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर पंजाब से हरियाणा की ओर पलायन कर रहे हैं. जिसमें ज्यादातर मजदूरों के पास लॉकडाउन पास नहीं था. जिस वजह से अंबाला पुलिस ने उन्हें नेशनल हाईवे पर रोककर खदेड़ दिया. पुलिस की मार के डर से मजदूरों में भगदड़ मच गई और कइयों के जूते चप्पल वहीं छूट गए. जबकि कुछ लोगों के पैदल चलते हुए जूते-चप्पल घिस गए. लेकिन मजदूरों ने तब भी हार नहीं मानी और अपनी मंजिल की ओर बढ़ने लगे.

मजदूरों ने पानी की बोतलों को बनाया चप्पल

लेकिन चिलचिलाती धूप में उनके पैर जलने लगे. मजदूरों को बिना जूते-चप्पल के घर जाना नामुमकिन सा लग रहा था. ऐसे में उनके दिमाग में एक आइडिया आया और उन्होंने पानी की बोतलों को पैरों में बांधकर चप्पल बना ली और अपनी मंजिल की ओर निकल पड़े.

विधायक ने पहनाई चप्पल

इस बीच अंबाला के विधायक असीम गोयल की नजर इन मजदूरों पर पड़ी. उन्होंने नई चप्पलें मंगवाकर मजदूरों को पहनाईं. इसके बाद विधयाक ने पंजाब पुलिस से आग्रह किया कि इन मजदूरों को उनके घर वापस जाने दिया जाए, इसके लिए उन्होंने अधिकारियों से भी बात की. विधायक ने इस बारे में पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से भी बात की. इतना ही नहीं उन्होंने पैदल जा रहे मजदूरों को चप्पल के अलावा नाश्ते का भी इंतजाम करवाया. अंततः वे सभी मजदूर अपने अपने घरों की ओर चल दिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here